Culture

मागे पर्व

आदिवासी #हो समुदाय के नव वर्ष का पहला और सबसे बड़ा त्योहार है- मागे_पर्व। यह फसल के कटने व खेत खलिहान के कार्य खत्म होने के बाद माघ महीने के पूर्णिमा को मनाया जाता है। इस पर्व के मनाने के पीछे अनेक कहानियां प्रचलित हैं। इनमें नई जगह गांव बसाने की एक Read more…

By admin, ago
Words

किलि

आदिवासी हो’ जनजाति में लगभग 132 गोत्र हैं। प्रचलित लोक कथाओं के अनुसार किलियों(गोत्र) के विभाजन के सम्बंध में अलग-अलग मान्यताएँ प्रचलित हैं। एक विश्वास के अनुसार, कर्म को विभाजन का आधार माना गया है। जैस, आदिकाल में जो मानव सिडवोंगा-पुजा(वोंगाबुरु) आरंभ किए उन्हें “बोबोंगा“ कहा गया। मिट्टी से लेपने Read more…

By admin, ago