आदिवासी हो होन को…

#1.

जोनोम सर सिदुबे को            जन्म में तीर को जमीन में धंसाने वाले

 

मुनु दोस्तुर ओतोंगे को           आदिम विशिष्टता रखने वाले

 

सरना दोरोम मनातिंग को         सरना धर्म मानने वाले

 

आदिवासी हो होन को..           आदिवासी हो हैं…

 

#2.

राम्बा-चावली जुड़ी को            उड़द-चावल मिलाने वाले(नामकरण)

 

जिया-ताता रे सकिन को          दादा-दादी पर नाम रखने वाले

 

साकि सुतम तोलेन को           दादा दादी के नाम पर धागा बांधने वाले

 

आदिवासी हो होन को..           आदिवासी हो हैं…

 

#3.

होरा डुलीड रे इनुंग को            रास्ते में, धूल में खेलने वाले

 

ओव: ओव: इनुंग को             घर-घर खेलने वाले

 

सेंया अउरी नमें को              दिकु जागरूकता नहीं रखने वाले

 

आदिवसी हो होन को..            आदिवासी हो हैं…

#4.

दंडीया चूर इनुंग को              दंडीया चूर(आदिवासी खेल) खेलने वाले

 

दरू दोड़ी डेलुअन को             पेड़ के टहनियों में खेलने वाले

 

गिरली सेकोर इनुंग को           गिरली सेकोर(आदिवासी खेल) खेलने वाले

 

आदिवासी हो होन को..           आदिवासी हो हैं…

 

#5.

नाड़ागड हासा नाकन को          मुल्तानी मिट्टी से धोने वाले

 

डेबेल डेबेल ओड़ान को            नदी तालाब में नहाने वाले

 

कोरोंजो-बरु-लिम सुनुमेन को       करंज कुसुम नीम का तेल लगाने वाले

 

आदिवासी हो होन को..           आदिवासी हो हैं…

 

#6.

लुकु लुकुमी मेनेंन को            अपने को लुकु लुकुमी कहने वाले

 

दोति-पिन्दे तोलेन को            धोती(विशेष तरीके से) बाँधने वाले

 

एर हतर सुरबुडेन को             साड़ी(विशेष तरीके से) पहनने वाले

 

आदिवासी हो होन को..           आदिवासी हो हैं…

 

#7.

सिपि सुपिड रोतोडेन को           बालों को विशेष रूप से बाँधने वाले

 

मुली पनाह गलांगेन को           कपाल में सीधा बाल बनाने वाले

 

हो काजिः जागरे को             हो में बात करने वाले

 

आदिवासी हो होन को..           आदिवासी हो हैं…

 

#8.

लुकु कुड़ी मेनेंन को              लुकु कुड़ी कहने वाले

 

कंदा चाटू दिपिल को             हांडी सर पर ढोने वाले

 

कटा कोरे आन्दुन को            पैर में पायल बाँधने वाले

 

आदिवासी हो होन को..           आदिवासी हो हैं…

 

#9.

लिटे वंश मेनेंन को              लिटा का वंशज मानने वाले

 

सर अ:सर हतारे को             तीर धनुष कंधे पर ढोने वाले

 

बादु दिरिंग ओरोंगे को            भैंस का सींग बजाने वाले

 

आदिवासी हो होन को..           आदिवासी हो हैं…

 

#10.

मगे पोरोब मनातिंग को          मगे पर्व मनाने वाले

 

ओते रे डीयं दुले को             हंडिया को जमीन पर गिराने वाले(ओते                              इल्ली)

 

बुनुम हसा उटुबे को             बुनुम मान्ध गिराने वाले

 

आदिवासी हो होन को..          आदिवासी हो हैं…

 

#11.

बहा पोरोब मनातिंग को           बहा पर्व मनाने वाले

 

सरजोम बहा सेबए को            साल का फूल पूजा करने वाले

 

लुतुर पेरे बान को               कानों में भर भर कर फूल लगाने वाले

 

आदिवासी हो होन को..           आदिवासी हो हैं…

 

#12.

हेर मुउट बोंगय को               हेर मुउट पूजा करने वाले

 

बिती एंगा सेबा तनको            एंगा बिती की पूजा करने वाले

 

जंगे ते जंग सार तनको           बीज से बीज विस्तार करने वाले

 

आदिवासी हो होन को..           आदिवासी हो हैं…

 

#13.

हेरो: पोरोब मनातिंग तनको        हेरो: पर्व मनाने वाले

 

बोदा मेरोम बोंगा तनको          विशेष खस्सी की पूजा करने वाले

 

होलोंग लुपु: लाडे को             चावल के आटे को पत्तों में पकाने वाले

 

आदिवासी हो होन को..           आदिवासी हो हैं…

 

#14.

बताऊलि पोरोबे को               बताउलि पूजा करने वाले

 

तिरिल दरू बिडे को              केंदु का लकड़ी गाड़ने वाले

 

कुण्डी-कुण्डी बिडे को             खेत खेत में गाड़ने वाले

 

आदिवासी हो होन को..           आदिवासी हो हैं…

 

#15.

जोम नमा पोरोब को             जोमनामा पर्व मनाने वाले

 

नमा बाबा ताबेन को             नया धान से चूड़ा बनाने वाले

 

सोसो सकम रे सेबए को          भेलुआ के पत्ते में पूजा करने वाले

 

आदिवासी हो होन को..           आदिवासी हो हैं…

 

#16.

दमा दुमंग रे सुसुन को           मांदर-नगाड़ा की धुन में नाचने वाले

 

रुतु बनम ते रसिका को          बांसुरी और बनम(वायलिन) में मन्त्र मुग्ध                              रहने वाले

 

सेबेरे-सेबेरे मेने को              सेबेरे सेबेरे कर खुशी मनाने वाले

 

आदिवासी हो होन को..          आदिवासी हो हैं…

 

#17.

बोड़ो बोंजी मनातिंग को           बोड़ो बोंजी पूजा करने वाले

 

किली मरंग बोंगा सेबा तनको      मरंग बोंगा की पूजा करने वाले

 

ओंस बोंस हेरा तनको            किली गोत्र मानने वाले

 

आदिवासी हो होन को..           आदिवासी हो हैं…

 

#18.

सुसुन अखड़ा रे सुसुन को          नाचने वाले जगह पर नाचने वाले

 

कोड़ा-कुड़ी गपाती को             लड़का लड़की साथ नाचने वाले

 

गेते-गेते गपाति को              एक लाइन में नाचने वाले

 

आदिवासी हो होन को..           आदिवासी हो हैं…

 

#19.

बुरु संगर सेंदेरा को              शिकार सेंदेरा मनाने वाले

 

बगिया बोंगा सेबा तनको          बगिया की पूजा करने वाले

 

समंग सुपु होलोंगेन को           कपाल और बाँहों में चावल के आटे का लेप                               लगाने वाले

 

आदिवासी हो होन को..           आदिवासी हो हैं…

 

#20.

मुता द: दापारोम को             लोटा पानी से स्वागत करने वाले

 

मटिए डियंग तिपिल को          मिट्टी के बर्तन से हंडिया एक दूसरे को देने                              वाले

 

कटा सब काड़ोब को             विशेष आयोजनों में पैर पकड़ कर रखने वाले

 

आदिवासी हो होन को..           आदिवासी हो हैं…

 

#21.

बाला सका बापाला को            बाला(शादी से पहले की प्रक्रिया) मानने वाले

 

होरा-बारा बई तनको              चल चल कर रास्ता बनाने वाले

 

जाति हुदा मरंग तनको           अपने समाज पर गर्व करने वाले

 

आदिवासी हो होन को..           आदिवासी हो हैं…

 

#22.

आणादि-कोणादि पुयुरे को         शादी की आदिवासी प्रक्रिया पूरा करने वाले

 

लियु दुतम करजी को            जान पहचान कराने वाले

 

होरा पनाह एरे बोंगय को         एरे बोंगा करने वाले

 

आदिवासी हो होन को..           आदिवासी हो हैं…

 

#23.

अजी हनर तोपोल को            अजी हनर(शादी का आदिवासी प्रक्रिया)                                मानने वाले

 

चिंडे सिम मेरोम को             …………..

 

गोनोंग उरी:एपेम को             शादी में लड़की वालों को गाय/बैल देने वाले

 

आदिवासी हो होन को..           आदिवासी हो हैं…

 

#24.

होटो: पेरे: हिपिसिर को           गले भर के माला पहनाने वाले

 

बा जो ते डूपुंगा को              फूल से फल से विदाई देने वाले

 

डूब-डूब डूबबाला को              हंडिया से स्वागत सत्कार करने वाले

 

आदिवासी हो होन को..           आदिवासी हो हैं…

 

#25.

बिड दिरी बिडे को               खड़ा पत्थर गाड़ने वाले

 

ससन दिरी तेने को              ससन में पत्थर दफनाने वाले

 

मुनु सोदोरी राका तनको          आदिम संस्कार संस्कृति के रखवाले

 

आदिवासी हो होन को..           आदिवासी हो हैं…

 

#26.

होलोंग तोरो:ए गुमे को            चावल का आटा और राख का अवशेष से                               पूजा करने वाले

 

जीइ रोवा केयाय को             आत्मा को घर बुलाने वाले

 

अदिंग मोन्डो बोंगा तनको         अदिंग में पूजा करने वाले

 

आदिवासी हो होन को..           आदिवासी हो हैं…

 

#27.

रोवा उम्बुल राका तनको          स्वर्ग नरक को नहीं मानने वाले

 

डियंग रासी बोंगा तनको          हंडिया और रसी पूजा करने वाले

 

मयोम गिरुम सेबा तनको              बलि देकर पूजा करने वाले

 

आदिवासी हो होन को..           आदिवासी हो हैं…

 

#28.

उरि: मेरोम असुल तनको              गाय बैल पालने वाले

 

बाबा बिती चास तनको           धान एवं दलहन उपजाने वाले

 

ओते हासा रे पइटी तनको         खेती गृहस्ती वाले

 

आदिवासी हो होन को..           आदिवासी हो हैं…

 

#29.

कोलोम ओटाणी बोंगा तनको       खलिहान में पूजा करने वाले

 

बिती एंगा सेबा तनको            बिती एंगा पूजा करने वाले

 

बाबा हेर मुउटुई को               खेती से पहले धरती की अनुमति लेने वाले

 

आदिवासी हो होन को..           आदिवासी हो हैं…

 

#30.

आंर नाइल ते पइटी को           हल बैल से जोतने वाले

 

कारा अतागोम ते सोमाने को       समतल करने के पारंपरिक तरीके अपनाने                              वाले

 

गांयता कुडलम उ:उर को          गैंता कुल्हाड़ी से काम करने वाले

 

आदिवासी हो होन को..           आदिवासी हो हैं…

 

#31.

सरजोम सकम रे जोजोम को       साल के पत्तों में खाने वाले

 

किता सकम रे गीति: को          जाटी(एक तरह का दरी) में सोने वाले

 

तिरिल सकम मो:एय को          ग्रह नक्षत्र को केंदु के टहनी से भगाने वाले

 

आदिवासी हो होन को..           आदिवासी हो हैं…

 

#32.

बुरु बोंगा सेबा तनको             जंगल के देवों को पूजने वाले

 

देसाउलि सेबा तनको             देशाउलि की उपासना करने वाले

 

नगे एरा सेबा तनको             पानी की देविओं की पूजा करने वाले

 

आदिवासी हो होन को..           आदिवासी हो हैं…

 

#33.

हातु पोरजा पाईकि को            गाँव में सामाजिक समरसता में जीने वाले

 

मुन्डा मानकी दियुरी को          मुंडा मानकी एवं दियुरी को मानने वाले

 

दुकु-सुकू देपेंगा को               सुख दुःख में साथ निभाने वाले

 

आदिवासी हो होन को..           आदिवासी हो हैं…

 

#34.

कुटुंग-कुपुल दिपिलि को           सुख दुःख में एक दूसरे को बुलाने वाले

 

दिरी दुलसुनुमे को               मृत्यु संस्कार की आदिवासी रीति विधि                               अपनाने वाले

 

कडसोमबा तोपोल को             धोती/साड़ी से एक दूसरे को सम्मान देने                               वाले

 

आदिवासी हो होन को..           आदिवासी हो हैं…

 

#35.

कुपुल-सगाई उपुरुम को           जान पहचान में शादी देने वाले

 

होरा बारा राका तनको            जल, जंगल जमीन की रक्षा करने वाले

 

मटिया डियंग तिपिल तनको       मिट्टी के बर्तन में हंडिया पिलाने वाले

 

आदिवासी हो होन को..           आदिवासी हो हैं…

 

#36.

बरिया तिड़ी पंतीइ को            दोनों हाथों को साथ रख जोहार कहने वाले

 

बोड़ो: जोका तिरुबे को            सर तो थोड़ा झुक कर जोहार कहने वाले

 

जिइ रोवा जोहारे को             जोहार कहने में पूरा सम्मान दर्शाने वाले

 

आदिवासी हो होन को..           आदिवासी हो हैं…

 

डोबरो बिरुली(हो साहित्यकार)

नोट : हिंदी का अनुवाद सिर्फ समझने के लिए, असली अर्थ सिर्फ हो में ही संभव…

Source: https://hosamaj.blogspot.com

 

Categories: Words

1 Comment

Tata Chattar · July 4, 2018 at 3:45 am

It’s very good for us to learn ho.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *